Virtual Reality Vs Augmented Reality Kya Hai Or Dono Me Difference

स्वागत है आपका मेरी वेबसाइट/ब्लॉग Geeky Rohit पर। आज की मेरी यह पोस्ट है Virtual Reality (वर्चुअल रिअलिटी) ओर ऑगमेंटेड रिएलिटी (Augmented Reality) के बारे में। इसमें में आपको
Virtual Reality Vs Augmented Reality दोनों में अन्तर को विस्तार से हिन्दी मे बताने वाला हूं कि ये VR ओर AR क्या है और दोनों में क्या क्या अंतर या Difference है।

दोस्तों, Gaming की दुनिया में आजकल दो तकनीकों का बोलबाला है, एक AR (ऑगमेंटेड रियलिटी) और दूसरी VR (वर्चुअल रिएलिटी)। ये दोनों शब्द बोलने में एक जैसे लगते हैं, लेकिन इनकी तकनीक और इस्तेमाल अलग-अलग है। इनको Computer और Smartphones में इस्तेमाल कर सकते हैं।

दूसरी तरफ इन दोनों को Google, Apple जैसी कंपनियां काफी बढ़ावा दे रही हैं। दोनों के मुख्य अंतर की बात करें तो वीआर या VR (Virtual Reality) तकनीक, यूजर को मौजूदा रिएलिटी से बिल्कुल अलग, लेकिन उससे मेल खाती एक डिजिटल आभासी दुनिया में ले जाती है, जबकि एआर या AR (Augmented Reality) Real World को Use करते हुए उसमें Virtual या Digital Elements जोड़ देती है।

Virtual Reality And Augmented Reality Details: Difference In Hindi 2019


वर्चुअल रियलिटी (Virtual Reality)

Virtual Reality एक कंप्यूटर Technology होती है जिसका उपयोग एक काल्पनिक दुनिया को Create करने के लिए किया जाता है जिससे आप ऐसा अनुभव करते है की आप उस दुनिया में है। Virtual Reality का Use 3d Environment में High Visual Multimedia से संबंधित Application के लिए किया जाता है।
Virtual Reality में Artificial Environment को कुछ खास Hardware और Software की Help से बनाया जाता है जिससे यूजर को वह Artificial Environment Real Environment की तरह लगता है Virtual Reality में 3d और 360 डिग्री View Video Technology का Use होता है इसमे आप Video को हर तरफ आगे-पीछे घूम कर देख सकते है।

इसमें VR हैडसेट और Computer के उपयोग से एक असली दुनिया से अलग एक Digital व Virtual Space बनाकर उसी में interact किया जाता है। इसमें कई Visual Effects और Sounds का प्रयोग किया जाता है, जिससे VR Games ज्यादा Real अनुभव देते हैं। जो लोग Mobile और Computer पर Games खेलते हैं, वे वीआर (VR) के जरिए उनका हिस्सा बन सकते हैं।



ऑगमेंटेड रिएलिटी (Augmented Reality)

ऑगमेंटेड रिएलिटी एक ऐसी Technology है, जिसमे में एक Computer – Generated Image को असल दुनिया के User View पर Superimposed कर दिया जाता है। यहां कम्प्यूटर जनरेटेड Visual, Audio, Haptic आदि की भी मदद से भी Reality को बदला जाता है।

इस तकनीक को मिक्स्ड रिएलिटी (Mixed Reality) भी कहते हैं, क्योंकि कम्प्यूटर से बनाई गई Images को वास्तविक दुनिया के यूजर व्यू पर Superimpose करते हुए एक ऐसा दृश्य तैयार कि या जाता है, जिससे आप असली और आभासी दुनिया में फर्क नहीं बता सकते।

Apps : Play Store पर ऑगमेंटेड रिएलिटी या Augmented Reality सर्च करने पर Android – iOS सपोर्ट करने वाले कई Applications मिलते हैं, जैसे- जॉम्बीज गो (Zombies Go!), गूगल गॉगल्स (Google Goggles), जस्ट अ लाइन (Just a Line), ग्रिफी वर्ल्ड (Giphy World) और क्विवर (Quiver).

Mobile Devices व Apps For VR And AR Technology

Google का CardBoard नामक सस्ता वीआर डिवाइस खरीदकर इसे घर पर
ही मोबाइल फोन के साथ जोड़ सकते हैं। इसके लिए प्ले-स्टोर से “गूगल कार्डबोर्ड” डाउनलोड कर इन एप्स को Select कर सकते हैं, जैसे – Space Trawel के लिए टाइटन्स ऑफ स्पेस , डायनासोर वर्ल्ड के लिए जुरासिक वीआर, समुद्र की गहराइयों में जाने के लिए फिश स्कूलिंग आदि ।

तो दोस्तों, ये थी वर्चुअल रियलिटी (VR) Technology ओर ऑगमेंटेड रिएलिटी (AR) Technology के बारे में आज की ख़ास जानकारी और इनके बीच अंतर। अब Smartphones बनाने वाली कंपनियों में जबर्दस्त Competition है। यही वजह है, कि Hardware में नजर आने वाला अंतर खत्म होता जा रहा है। अब स्मार्टफोन्स के बीच में असल लड़ाई Software की हो रही है। Artificial Intelligence के अलावा Apple का iOS और Google का Android ऑपरेटिंग सिस्टम Augmented Reality पर भी निर्भर होता जा रहा है, ताकि खुद को बेहतर साबित किया जा सके। आने वाले समय या कुछ सालों में इन डिजिटल टेक्नोलॉजी का बोलबाला होगा।

आज की इस खाश जानकारी में बस इतना ही। ऐसी ही अन्य Geek या Technology से जुड़ी जानकारियों के लिए जुड़े रहिये मेरे इस हिन्दी ब्लॉग Geeky Rohit के साथ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here